धोखेबाज दोस्त स्टेटस शायरी - Yaari me Gaddari Status in Hindi

धोखेबाज दोस्त स्टेटस शायरी - Yaari me Gaddari Status in Hindi 

आज के समय में दुनिया मतलब की हो गई हैं। दोस्त भी दोस्ती इसलिए करते हैं ताकि उनका मतलब निकल सके। दोस्ती का रिश्ता हर रिश्तों से बड़ा माना जाता हैं जब सारी दुनिया साथ छोड़ देती हैं तब भी दोस्त साथ खड़े होते हैं। आज के समय में दोस्त भी वक्त के साथ बदलने लगे हैं और मतलब की दोस्ती रखने लगे हैं। कई बार ऐसा होता हैं की काम निकल जाने के बाद दोस्त हमे पहचानने से भी मना कर देते हैं। जिससे हमे बहुत ठेस पहुँचता हैं। इस लिए ऐसे दोस्तों के लिए हम इस पोस्ट धोखेबाज दोस्त पर शायरी इन हिंदी, धोखेबाज दोस्त पर स्टेटस, Dhokebaaz Dost Shayari, गद्दार दोस्त पर शायरी, धोखेबाज इमेज, dosti me dhoka whatsapp status, गद्दार दोस्त स्टेटस, दोस्ती में धोखा शायरी इन हिंदी, विश्वासघात शायरी ऊममीद है कि यह पोस्ट पसंद आयेगी। 
धोखेबाज दोस्त स्टेटस शायरी - Yaari me Gadari Status in Hindi

दोस्ती में धोखा शायरी - Dhokebaaz Dost Shayari in Hindi

वो जो अपना था हुंसे है खफा,
पता नही किस से हुई थी क्या ख़ाता,
बे-वजह दिल नही टूट-ता किसी का,
तुम थे या हम थे बेवफा…

वातावरण को जो महका दे उसे ‘इत्र’ कहते हैं
जीवन को जो महका दे उसे ही ‘मित्र’ कहते हैं

दोस्त को दौलत की निगाह से मत देखो
वफा करने वाले दोस्त अक्सर गरीब हुआ करते हैं

पी लेते हैं एक दूसरे की जूठी सिगरेट भी
दोस्ती किसी मजहब की मोहताज नहीं होती

ग़मों की बरसात समेटे बैठा हूँ , किसी बेवफा से धोखा खाया बैठा हूँ , जाने कब देगा उपरवाला मुझे मौत , खुदा के भरोसा आस लगाये बैठा हू

शहर में हमदम पुराने बहुत थे नासिर;
वक़्त पड़ने पर मेरे काम ना आया कोई।

यू तो कोई तन्हा नही होता,
चाहकर किसी से कोई जुदा नही होता,
मोहब्बत को मजबूरिया ही ले डूबती है,
वरना खुशी से कोई बेवफा नही होता.

पहले ज़िंदगी छीन ली मुझसे,
अब वो मेरी मौत का भी फ़ायदा उठाती है,
मेरी क़बर पे फूल चढाने के बहाने,
वो किसी और से मिलने आती है..!!!

समझ लेते हैं हम उनकी दिल की बात को,
वो हमें हर बार धोका देते है,
लेकिन हम भी मजबूर हैं दिल से,
जो उन्हें बार बार मौका देते हैं…!

 Gaddar Dost Shayri

तेरी दोस्ती ने दिए सुकून इतना,
कि तेरे बाद कोई भी अच्छा न लगे,
तुझे करनी हो बेवफाई तू इस अदा से करना,
कि तेरे बाद कोई भी बेवफा न लगे…!!!

अनजाने में दिल गँवा बैठे
इस प्यार में कैसे धोखा खा बैठे
उनसे क्या गिला करे, भूल तो हमारी थी
जो बिना दिल वालों से दिल लगा बैठे

कैसी है यह हमारी तक़दीर,
हर तरफ दागा ही पाया है.
दिल मे तो है प्यार ही प्यार लेकिन,
हर तरफ बेवफाओ को ही पाया है.

इंनकार करते करते, इकरार कर बैठे,
हम तो एक बेवफा से प्यार कर बैठे.

कोई वादा नही फिर भी तेरा इंतेज़ार है,
जुदाई के बाद भी तुमसे प्यार है,
तेरे चेहरे की उदासी दे रही है गवाही,
मुजसे मिलने को तू अब भी बेकरार है.

अब तो हम तेरे लिए अजनब हो गया
बातो के सिलसिले भी कम हो गया
खुशियो से जुआदा हमारे पास गम हो गया
क्या पता ये वक़्त बुरा है या बुरे हम हो गय

हर दिल का ज़ख़्म धो लेते हे,
आंशु ओ के जाम से.
इतनी बेवफ़ाई करो की,
नफ़रत हो जाए लड़की ओ के नाम से

इश्क ए मोहब्बत मे कभी ऐसे तस्वीर भी होगी,
हमे क्या पता के किसी बेवफा के लिए शायरी भी लिखनी होगी .

वफ़ा के नाम से वोह अनजान थे!
किसी की बेवफाई से शायद परेशान थे!
हमने वफ़ा देनी चाही तो पता चला!
हम खुद बेवफा के नाम से बदनाम थे!

मेरी मौत के सबब आप बने;
इस दिल के रब आप बने;
पहले मिसाल थे वफ़ा की;
जाने यूँ बेवफ़ा कब आप बने।

अपने दिल को आख़िर दुखाना है,
और बहारो मे घर सज़ाना है,
तो प्यार अक्सर एक बेवफा से करो,
अगर मोहब्बत को आजमाना है.

किसी रोज़ याद न कर पाऊं तो खुदगर्ज़ न समझ लेना दोस्तों
दरसल छोटी सी इस उम्र में परेशानिया बहुत हैं

दुश्मन के सितम का खौफ नहीं हमको
हम तो दोस्तों के रूठ जाने से डरते हैं

अगर दोस्ती ही दौलत है,
तो हम इस शहर के सबसे अमीर इंसान हैं
क्यूंकि हमारे पास जान लगाने वाले दोस्त हैं

करनी है खुदा से गुजारिश
तेरी दोस्ती के सिवा कोई बंदगी न मिले
हर जनम में मिले दोस्त तेरे जैसा
या फिर कभी जिंदगी न मिले

 Dhokebaaz dost ki shayari

तेरी दोस्ती का गुलाम हूं वरना
शहंशाह से भी गुलामी करवाने की नवाबीयत रखता हूं

दावे दोस्ती के मुझे नहीं आते यारों
एक जान है जब दिल चाहे मांग लेना

कुछ खोये बिना हमने पाया है, कुछ मांगे बिना हमें मिला है
नाज़ है हमें अपनी तक़दीर पर जिसने आप जैसे दोस्त से मिलाया है

सारे दोस्त एक जैसे नहीं होते
कुछ हमारे होकर भी हमारे नहीं होते
आपसे दोस्ती करने के बाद महसूस हुआ
कौन कहता है कि तारे जमीन पर नहीं होते

तू रूठा रूठा सा लगता है
कोई तरकीब बता मनाने की
मैं ज़िन्दगी गिरवी रख दूंगा
तू क़ीमत बता मुस्कुराने की

सब कुछ है मेरे पास पर दिल की दवा नहीं, दूर वो मुझसे हैं पर मैं खफा नहीं, मालूम है अब भी प्यार करते है मुझसे, वो थोडा सा जिद्दी है, मगर बेवफा नही

चाहने वालो को यू सताया नही जाता,
बेवफाओ को भी यू भुलाया नही जाता.
हम तो तुम्हारे ही है,तुम्हारे ही थे,
आपनो को यू ज़िंदगी मे तडपाया नही जाता.

बेवफा है दुनिया किसी का ऐतबार ना करो,
हर पल देते है धोका किसी से प्यार ना करो,
मिट जाओ बेशाक़ तनहा जी कर,
पर किसी के साथ का इंतज़ार ना करो.

एक साल में 50 मित्र बनाना आम बात है
पर 50 साल एक ही मित्र होना खास बात है

मैं भूला नहीं हूँ किसी को मेरे बहुत अच्छे दोस्त हैं ज़माने में
बस थोड़ी ज़िन्दगी उलझी हुई है दो वक़्त की रोटी कमाने में

एक आग लगाई सिने मे मेरे,
और उसका माज़ा भी लेते रहे,
शोलो का तमाशा भी देखा उसने,
और आँचल से हवा भी देते रहे.

बेख़बर तुझे क्या खबर;
तेरी आँखों मई कैसा जमाल है;
तुझे देख ले जो बस इक नज़र;
उस की आँखों मे फिर यह सवाल है!

ज़ख़्म जब मेरे सिने के भर जाएँगे;
आँसू भी मोती बनकर बिखर जाएँगे;
ये मत पूछना किस किस ने धोखा दिया;
वरना कुछ अपनो के चेहरे उतर जाएँगे।

हमने अपनी सांसो पर उनका नाम लिख लिया,
नही जानते थे की हमने कुछ ग़लत किया,
वो प्यार का वादा हमसे करके मुकर गये,
खैर उनकी बेवफ़ाई से कुछ तो सबक लिया.

दोस्त पर जान दे देना इतना मुश्किल नहीं
जितना मुश्किल है, ऐसे दोस्त को ढूंढना जिस पर जान दी जा सके

हम आज भी शतरंज़ का खेल
अकेले ही खेलते हैं
क्यूंकि दोस्तों के खिलाफ चाल
चलना हमें आता नहीं

कौन कहता है कि मुझ में कोई कमाल रखा है
मुझे तो बस कुछ दोस्तों ने संभाल रक्खा है

भले ही अपने जीगरी दोस्त कम हैं
पर जीतने भी है परमाणु बम हैं

 Dhokebaaz dost shayari in english

कहते हैं दिल की बात हर किसी को बताई नहीं जाती
पर दोस्त तो आईने होते हैं और आईने से कोई बात छुपाई नहीं जाती

दुश्मन को जलाना
और दोस्त के लिए
जान की बाजी लगाना
फितरत है हमारी

हम शराब नहीं पीते लेकिन शराबी दोस्त रखते हैं
क्यूंकि शराबी दोस्त अच्छे होतेे हैं
ग्लास जरूर तोड़ सकते हैं, लेकिन दिल नहीं

दोस्त रूठे तो रब रूठे
फिर रूठे तो जग छूटे
फिर रूठे तो दिल टूटे
अगर फिर भी रूठे तो
उतार चप्पल और तब तक मार साले को
जब तक चप्पल ना टूटे

जिंदगी ज़ख्मों से भरी है
वक़्त को मरहम बनाना सीख लो,
हारना तो है एक दिन मौत से,
फिलहाल… दोस्तों के साथ जिंदगी जीना सीख लो

दोस्त तो दोस्त होता है, उसकी कोई जात या धर्म नहीं होता
वो ख़ुशी के टाइम पे भी गालियाँ सुनाता है और बुरे टाइम पे भी

पल पल उसका साथ निभाते हम
एक इशारे पर दुनिया छोड़ जाते हम
समंदर के बिच में पहोच कर फरेब किया उसने
वो कहते तो किनारे पर ही डूब जाते हम

उसने तोडा वो ताल्लुक़ जो हमारी हर बात से था
उसको दुःख न जाने मेरी किस बात से था
सिर्फ ताल्लुक़ रहा, लोगों की तरह वो भी
जो अच्छी तरह वाकिफ मेरी हर बात से था

दिल्लगी थी उसे हमसे मोहब्बत कब थी
महफ़िल-ए-गैर से उन्हें फुर्सत कब थी
हम थे मोहब्बत में लूट जाने के काबिल
उसके वादों में वो हक़ीक़त कब थी

कदम कदम पर बहारो ने साथ छोडा ,
जरुरत पडने पर यारो ने साथ छोडा ,
बादा किया सितारोँ ने साथ निभाने का ,
सुबह होने सितारो ने साथ छोडा .

इतनी वफ़ादारी ना कर किसी से यूँ मदहोश होकर
दुनिया वाले एक खता के बदले सारी वफ़ाएं भुला देते ह
अगर आप किसी कों धोका देने में कामयाब हो गए
तो ये मत समजना की आप कितने चालाक है
ये सोचना की वो आप पर कितना विश्वास करता था

गद्दार दोस्त पर शायरी
मैंने उनसे प्यार किया,
यह मेरे प्यार की हद थी.
मैंने उनपे इतबर किया,
यह मेरे इतबर की हद थी.
मरकर भी खुली रही मेरी आखें,
यह मेरे इंतिज़ार की हद थी.

बेवफा सनम से तो सिग्रत्ती अची है,
बेवफा सनम से तो सिग्रत्ती एकही है ,
दिल जलती है, पर होतो से तो लगती ह

हमने आपकी यद् मे सिगरेट जलाई
मगर कम्भाकत ढूएने भी तेरी तस्वीर बनाई.

समजते थे हम उनकी हर एक बात को,
वो हर बार हमसे धोका देते थे,
पर हम भी वक़्त के हातो मजबूर थे,
जो हर बार उनको मौका देते थे.

मोहब्बत करने वालो मे भी अक्सर ये सिला देखा हे,
जिन्हे अपनी वफ़ा पे नाज़ था, उन्हे भी बेवफा देखा हे.

हमने तो बेवफा के भी दिल से वफ़ा किया
इसी सादगी को देखकर सबने दगा किया
मेरी टिशनगी तो पी गयी हर जख्म के आँसू
गर्दिश मे आके हमने अपना घर बना लिया

 Dhokebaaz dost shayari punjabi

मोहब्बत मे जी गया कोई प्यार मे मर गया कोई,
मोहब्बत आग को सागर हे फिर भी उतार गया कोई,
प्यार मे ज़ख़्म का किस्सा बहोत पुराना हे दोस्तो,
ज़ख़्म दे गया कोई तो ज़ख़्म भर गया कोई .

मौत माँगते है तो जिन्दगी खफा हो जाती है, जहर लेते है तो वो भी दवा हो जाती है, तू ही बता ऐ दोस्त क्या करूँ, जिसको भी चाहा वो बेवफा हो जाती है.. ;

पत्थर से दिल लगाने से पहेले देख लेते,
की वो धड़क रहा हे के नही.
उनपर ऐतबार ना करते हम अगर,
तो ज़िंदगी मे ठोकर ना खाते हम कभी.

वफ़ा के नाम से वो थोड़े अंजान थे,
किसी की बेवफ़ाई से शायद थोड़े परेशान थे,
जब हमने वफ़ा देनी चाही तब पता चला के,
हम खुद बेवफा के नाम से बदनाम थे. –

हर धड़कन मे एक राज़ होता है,
हर बात को बताने का एक अंदाज़ होता है,
जब तक ठोकर ना लगे बेवफ़ाई की,
हर किसी को आपने प्यार पे नाज़ होता है.

तुने जो मिटा डाला
था मुझको बेवफा;
मेरी पाक मुहब्बत की
एक तासीर अभी बाकी है।

पत्थर से दिल लगाने से पहेले देख लेते,
की वो धड़क रहा हे के नही.
उनपर ऐतबार ना करते हम अगर,
तो ज़िंदगी मे ठोकर ना खाते हम कभी.

वफ़ा के नाम से वो थोड़े अंजान थे,
किसी की बेवफ़ाई से शायद थोड़े परेशान थे,
जब हमने वफ़ा देनी चाही तब पता चला के,
हम खुद बेवफा के नाम से बदनाम थे. –

हर धड़कन मे एक राज़ होता है,
हर बात को बताने का एक अंदाज़ होता है,
जब तक ठोकर ना लगे बेवफ़ाई की,
हर किसी को आपने प्यार पे नाज़ होता है.

ई मेरे जुर्म गिनाने वाले
तेरे घर कोई आइना है क्या?

शाम होते ही चिरागों को बुझा देता हूँ
यह दिल ही काफ़ी है तेरी याद मैं जलने के लिए

किसी का हाथ लेकर हाथ मे जब तुम मिले हमसे,
तो कैसे टूट के बिखरा था मेरा मन आँखो मे,
ना समझो चुप है तो तुमसे कोई शिकवा नही बाकी,
हम अपने दर्द की नही रखते कोई पहचान आँखो मे,

कच्चे धागे सा इक झटके मे टूट जाए,
ऐसा दिल मुझे मिला है.
उस पर हर गहरा दर्द भी मुझे अपनो से मिला है.
जब-जब बनाना चाहा है किसी को अपना,
तोहफे मे बक्शी गयी मुझे बस जुदाई और रुसवाई है.
क्या हुआ जो आज फिर संग मेरे तन्हाई है.

वो जो अपना था हुंसे है खफा,
पता नही किस से हुई थी क्या ख़ाता,
बे-वजह दिल नही टूट-ता किसी का,
तुम थे या हम थे बेवफा…

 धोखेबाज दोस्त स्टेटस

बड़ी हसीन थी ज़िंदगी..
जब ना किसीसे मुहब्बत ना किसी से नफ़रत थी!
ज़िंदगी में एक मोड़ ऐसा आया मुहब्बत उससे हुई
और नफ़रत सारी दुनिया से हो गयी.

यू तो हर दिल में एक कशिश होती है
हर कशिश में एक ख्वाहिश होती है
मुमकिन नही सभी के लिए ताज महल बनाना
लेकिन हर दिल में एक मुमताज़ होती ह

मैं शिकायत क्यों करूँ, ये तो क़िस्मत की बात है..
तेरी सोच में भी मैं नहीं, मुझे लफ्ज़ लफ्ज़ तू याद है..!!

ना जाने कैसे इम्तेहान ले रही है जिँदगी आजकल,मुक्दर, मोहब्बत और दोस्त तीनो नाराज रहते है.
मैं फिर से, ठीक तेरे जैसे की तलाश में हूँ..
गलती कर रहा हू लेकिन होशोहवास में हू
मैं तेरा कोई नहीं मगर इतना तो बता
ज़िक्र से मेरे, तेरे दिल में आता क्या है?
कुछ उम्दा किस्म के जज़्बात हैं हमारे,कभी दिल से समझने की तकलुफ़्फ़् तो कीजिए।

मुहब्बत ज़िंदगी बदल देती है..
मिल जाए….तो भी..
ना मिले……..तो भी.. !

वो बेवफा मेरा इम्तिहान क्या लेगी,
मिलेगी नज़रो से तो नज़र तक झुका देगी,
उसे मेरी कबर पे दिया जलाने को मत कहेना,
वो तो नादान हे कही अपना हाथ जला देगी.

Tags - Dosti Yari Best Status, Dosti Friendship Yari Status, Whatsapp Status Dosti Hindi, Dosti Best Status in Hindi, Top Hindi Dosti Yari Status, Whatsapp Dosti Hindi Yari Status, धोखेबाज दोस्त स्टेटस, दोस्ती में धोखा शायरी इन हिंदी, दोस्ती में धोका शायरी, गद्दार दोस्त शायरी, Dhokebaaz dost shayari in hindi, Dhokhebaj dost shayari, Dhokha dost status in hindi.

हर दिन नये नये स्टेटस और शायरी पाने के लिए अभी Bookmark करें StatusCrush.in को। 

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां