[Latest] Good Afternoon Wishes, Status & Quotes in Hindi 2021

Good Afternoon Status in Hindi - हेलो दोस्तों, अगर आप अपने दोस्तों या परिवार या परिजनों के लिए Good Afternoon स्टेटस ढूंढ रहे है तो आज की इस पोस्ट Good Afternoon Wishes इन हिंदी में मिल जाइए। आज की इस पोस्ट में हमने Good Afternoon स्टेटस की बहुत अच्छी Collection मिल जाएगी। आप इन स्टेटस को अपने दोस्तों या परिवार या परिजनों के साथ शेयर कर सकते है। उम्मीद है कि आपको यह पोस्ट पसंद आएगी।

Afternoon

दोपहर की शुभकामनाये - Good Afternoon Wishes, Status & Quotes in Hindi 2021

सपनो की दुनिया में हम खोते गये

होश में थे फिर भी मदहोश होते गये

जाने क्या जादू था उस अजनबी चेहरे में

खुद को बहुत रोका फिर भी उसके होते गये.

गुड आफ्टरनून

 

सपनो की दुनिया में हम खोते गये

होश में थे फिर भी मदहोश होते गये

जाने क्या जादू था उस अजनबी चेहरे में

खुद को बहुत रोका फिर भी उसके होते गये.

गुड आफ्टरनून

 

बनाने वाले ने भी तुझे

किसी कारण से बनाया होगा

छोड़ा होगा जब ज़मीन पर तुझे

उसके सीने में भी दर्द तो आया होगा

 

दिल मे हमने तुम्हारे प्यार की दास्तान लिखी हैं

ना थोड़ी ना तमाम लिखी हैं

कभी हमारे लिए भी दुआ कर लिया करो सनम

हमने तो हर एक साँस तुम्हारे नाम लिखी हैं

गुड आफ्टरनून

 

नही आता जो उसका इंतेज़ार क्यूँ होता है

अपना यह हाल किसी के लिए क्यूँ होता है

बहुत चीज़े प्यारी है वैसे दुनिया में

मिलता नही जो उससे प्यार क्यूँ होता है

गुड आफ्टरनून

 

सूरज चाचा चढ़ पड़े हैं

धधक धधक हमें तड़पा रहे हैं

दोपहर की ये बैला बहुत सताती हैं

मुझे तो हर पल तकिये की याद दिलाती हैं

 

चाहे दिन हो या रात

या दोपहर की बात

हम याद करते हैं तुम्हे हर पल

तुम मुस्काते रहो बनकर सुंदर फूल

 

एसी कूलर का मजा तो गांव की गर्मी में है

लेकिन कमबख्त यहां बिजली ही नहीं

दोपहर एक युग सी लगती है

गर्म हवाओं में ये जिंदगी ना कटती है

 Good Afternoon Shayari For Whatsapp

जब तन्हाई में आपकी याद आती है

होंठो पे एक ही फरियाद आती है

खुदा आपको हर खुशी दे

क्यूंकी आज भी हमारी हर खुशी आपके बाद आती है.

 

नही आता जो उसका इंतेज़ार क्यूँ होता है, अपना यह हाल किसी के लिए क्यूँ होता है, बहुत चीज़े प्यारी है वैसे दुनिया में, मिलता नही जो उससे प्यार क्यूँ होता है?

 

डर मुझे भी लगा फांसला देखकर, पर में बढ़ता गया रास्ता देखकर, खुद भी खुद मेरे नजदीक आती गयी, मेरी मंज़िल मेरा हौसला देखकर

 

मैंने भी बदल दिए है ज़िन्दगी के उसूल, अब जो याद करेगा वो ही याद रहेगा

 

दिन के हर पहर याद आते हो तुम, शुक्र हैं शायर की शायरी हैं इंटरनेट पर, वरना हमारे लब्ज तुम समझ ना पाते, और हम यूँही तन्हा मजनू रह जाते

 

चिंता फिकर छोड़ो, अपनों से नाता जोड़ो, कब काम आयेगा यह व्हाट्स एप, उठाओं और गुड आफ्टर नून बोलो

 

गुड आफ्टर नून कह रहे हैं इसलिए ही पैगाम दे रहे हैं क्यूँ रूठती हो हमसे ऐसे वैसे ही इस गर्मी में हम जल रहे हैं

 

चाहे दिन हो या रात, या दोपहर की बात हम याद करते हैं तुम्हे हर पल तुम मुस्काते रहो बनकर सुंदर फूल

 

ताज़ी हवा मे फुलो की महक हो, पहली किरण मे चिड़ियो की चाहक हो, जब भी खोलो तुम अपनी पलके, उन पलकों मे बस खुशियो की झलक हो

 

बनाने वाले ने भी तुझे, किसी कारण से बनाया होगा, छोड़ा होगा जब ज़मीन पर तुझे, उसके सीने में भी दर्द तो आया होगा

 

इश्क कर देता है बेकरार, भर देता है पत्थर के दिल में प्यार, हर एक को नहीं मिलती जिंदगी की ये बहार, क्योंकि इश्क का दूसरा नाम है इंतजार

 

ये दोपहर का आलम भी अजीब हैं, तन में भरी सुस्ती भी क्या चीज हैं, एक तरफ काम का बोझ सताता हैं, दूसरी तरफ मूँछो वाला खडूस बॉस याद आता हैं

 

ना जाने कहा गये वो दिन, जब सब हमें शायर कहते थे, अब जब भी कोई लाइन सुनाते महफिल में, लोग हमसे इंटरनेट URL माँगने आ जाते हैं

 

सूरज चाचा चढ़ पड़े हैं, धधक धधक हमें तड़पा रहे हैं, दोपहर की ये बैला बहुत सताती हैं, मुझे तो हर पल तकिये की याद दिलाती हैं

 

हमें पता हैं हम तुम्हारी यादों में कैद हैं, तभी तो हर पल हमारे दिल में चैन हैं, फिर भी भेजते हैं संदेश इस ओर से, मिलते ही रिप्लाई करना वरना हिचकी आयेगी जोर से

 

ना जाने कहां गई वो दोपहर वाली दिन,

जब हम पेड़ की छांव में शायरी सुनाया करते थे,

और सब मुझे शायरी वाले कहा करते थे,

अब जब शायरी सुनाता हूं महफ़िल में

तो लोग मुझसे वेबसाइट की URL पूछने लग जाते हैं।

 

आने वाला दिन किसने देखा है,

उस दिन को लेकर आज के दिन खोए क्यों?

इन घड़ियों में हंस सकते हैं

तो आने वाले घड़ियों के लिए रोए क्यों?

 

ठंड के मौसम में कोहरे से भरा शहर,

सोचा सो लूं और थोड़ा जब तक ना हो दोपहर।

 Good Afternoon Wishes in Hindi

सुबह वाली धूप हमें जगाने आती है,

सारा अंधेरा को दुर कर जाती है,

सुबह वाली धूप की बात तो ठीक है

पर दोपहर वाली धूप पसीने निकाल जाती है।

 

दिल प्यार में बेकरार भी होता है

दोस्ती में इंतजार भी होता है

होती नहीं है प्यार में दोस्ती पर

दोस्ती में शामिल प्यार भी होता है.

 

मंजिल मिलने से दोस्ती भुलाई नहीं जाती

हमसफर मिलने से दोस्ती मिटाई नहीं जाती

Good Afternoon!!!

 

सच्ची दोस्ती बेजुबान होती है

यह तो आंखों से बयां होती है

दोस्ती में दर्द मिले तो क्या

दर्द में ही दोस्ती की पहचान होती है

Good Afternoon!!!

 

इश्क कर देता है बेकरार

भर देता है पत्थर के दिल में प्यार

हर एक को नहीं मिलती जिंदगी की ये बहार

क्योंकि इश्क का दूसरा नाम है इंतजार

Good Afternoon!!!

 

कुछ सोचो तो तेरा ही ख्याल आता है

कुछ बोलो तो तेरा नाम आता है

कब तक मैं छुपाऊं अपने दिल की बात

उसकी हर अदा पर हमें प्यार आता है

Good Afternoon!!!

 

दिल को दिल से चुराया तुमने

दूर होते हुए भी अपना बनाया तुमने

कभी भूल नहीं पाएंगे दोस्त तुमको

क्योंकि दोस्ती करना सिखाया तुमने

Good Afternoon!!!

 

आपकी हंसी बहुत प्यारी लगती है

आपकी हर खुशी हमें हमारी लगती है

कभी दूर ना करना खुद से हमें

आपकी दोस्ती हमें जान से भी प्यारी लगती है

Good Afternoon!!!

 

अक्सर तन्हाई में उन्हें याद किया करते हैं

बस यूं बेवजह खुद से ही उनकी बात किया करते हैं

चाहत तो है चाहत से ज्यादा उन्हें पाने की

पर वह हमें मजाक में ही टाल दिया करते हैं

 

मंज़िल मिलने से दोस्ती भुलाई नही जाती हमसफ़र मिलने से दोस्ती मिटाई नही जाती

 

सपनो की दुनिया में हम खोते गये होश में थे फिर भी मदहोश होते गये जाने क्या जादू था उस अजनबी चेहरे में खुद को बहुत रोका फिर भी उसके होते गये….

 

बनाने वाले ने भी तुझे किसी कारण से बनाया होगा छोड़ा होगा जब ज़मीन पर तुझे उसके सीने में भी दर्द तो आया होगा

 

बागो मे फूल खिलते रहेंगे, रात मे दीप जलते रहेंगे, दुआ है भगवान से की आप खुश रहो बाकी तो हम आपको Miss करते रहेंगे

 

खिलती हुई सुबह अलविदा कह रही है,

और पसीने वाली गर्मी दस्तक दे रही है,

उठ कर तो देखो दोपहर की नज़ारों को

दोपहर वाली सूरज गुड आफ्टरनून कह रही है।

- गुड आफ्टरनून जी

 

दोपहर की धूप याद दिलाती रहेगी,

गरमा गर्म भोजन की खुशबू आती रहेगी,

कितना भी morning breakfast क्यों ना खा लूं

 बिना afternoon lunch के भूख लगती रहेगी।

गुड आफ्टरनून!

 Good afternoon shayari caption

सर झुकाकर नमस्कार करते हैं,

दिल से मांगी दुआ आपके नाम करते हैं,

अगर स्वीकार हो तो मुस्कुरा देना,

हम ये प्यारा सा आफ्टरनून आपके नाम करते हैं।

- दोपहर की नमस्ते आपको

 

फिर चिड़ने वाली दोपहर आई है,

कड़कती गर्मी को साथ लाई है,

अब तैयार हो जाओ पसीने के पानी से नहाने को

अब दोपहर आपको Good Afternoon कहने आई है।

 

दिन के हर पहर याद आते हो तुम

शुक्र हैं शायर की शायरी हैं इंटरनेट पर

वरना हमारे लब्ज तुम समझ ना पाते

और हम यूँही तन्हा मजनू रह जाते

 

क्या समझ रखा हैं हमें

कोई आशिक आवारा

हमारी शायरी पर मत जाना

यह केवल काम हैं हमारा

 

चिंता फिकर छोड़ो

अपनों से नाता जोड़ो

कब काम आयेगा यह व्हाट्स एप

उठाओं और गुड आफ्टर नून बोलो

 

गुड आफ्टर नून कह रहे हैं

इसलिए ही पैगाम दे रहे हैं

क्यूँ रूठती हो हमसे ऐसे

वैसे ही इस गर्मी में हम जल रहे हैं

 

मंज़िल मिलने से दोस्ती भुलाई

नही जाती

हमसफ़र मिलने से दोस्ती

मिटाई नही जाती

Good Afternoon

 

ना जाने कहा गये वो दिन

जब सब हमें शायर कहते थे

अब जब भी कोई लाइन सुनाते महफिल में

लोग हमसे इंटरनेट URL माँगने आ जाते हैं

 

आज गुस्सा चढ़ा हुआ हैं नाक पर

किसे बनाये शिकार समझ नहीं पाते

लेकिन धन्यवाद हैं इंटरनेट का यारों

आजकल फालतू फालतू जोक्स हर पल हैं आते

 

अर्ज़ किया है………….

शेर ने पिया बकरी का खून

वाह वाह वाह

शेर ने पिया बकरी का खून

गुड आफ्टरनून

 

बागो मे फूल खिलते रहेंगे,

रात मे दीप जलते रहेंगे,

दुआ है भगवान से की आप खुश रहो

बाकी तो हम आपको “मिस” करते रहेंगे

गुड आफ्टरनून

 

कूलर और एसी का मजा तो गांव की गर्मी में होती है,

लेकिन किस्मत जो फूटी यहां तो बिजली ही नहीं है।

दोपहर को गर्मी उबलते हुए पानी के समान लगती है,

ऊपर से तेज़ हवाओं से दिन नहीं कट पाती है।

 

गुजर गई वो चमकते सितारें और गोल वाला मून,

अगर बुरी है आपकी तबियत तो गेट वेल सून,

मिस करता हूं आपकी और मेरी मुलाकात

फिर भी दुर से ही कहता हूं गुड आफ्टरनून।

 दोपहर की शुभकामनाये

हे सूर्य देव तेरा क्या इरादा है 

लगता है जैसे गर्मी देकर

मुझको ही पकाकर खाने का इरादा है।


दोपहर के भोजन में खुश्बू की महक हो,

पसीने की बौछार और धूप भी तेज़ हो,

लगे भूख जब जोरो की 

तो टूट पड़ो जैसे ही खाने की प्लेट सामने हो।

 

क्या है वादा तो ज़रूर पूरा करेंगे

सूरज की किरण बनकर आपको उठाएंगे

हम है तो मुरझाना किस बात का

तेरी दोपहर वाला lunch भी हम ही पकाएंगे।

 

हमें पता हैं हम तुम्हारी यादों में कैद हैं

तभी तो हर पल हमारे दिल में चैन हैं

फिर भी भेजते हैं संदेशा इस ओर से

मिलते ही रिप्लाई करना

वरना हिचकी आयेगी जोर से

 

सच्ची दोस्ती बेज़ुबान होती है

ये तो आँखो से ब्यान होती है

दोस्ती मे दर्द मिले तो क्या?

दर्द मे ही दोस्ती की पहचान होती है.

गुड आफ्टरनून

 

बागों में फूल खिलते रहेंगे

रात में दीप जलते रहेंगे

दुआ है भगवान से कि आप खुश रहो

बाकी तो हम आप को मिस करते रहेंगे

Good Afternoon…

 

जब भी मुझे याद तुम्हारी आती है

लबों पर मेरे बस यही फरियाद आती है

जिंदगी में खुदा हर खुशी दे तुम्हें

हमारी तो हर खुशी आपकी खुशी के बाद आती है

 

आँखों में रहने वाले को याद नहीं करते, दिल में रहने वाले की बात नहीं करते, हमारी तो रुह में बस गए हो आप , तभी तो मिलने की फरियाद नहीं करते

 

जब भी मुझे याद तुम्हारी आती है, लबो पे मेरे बस यही फ़रियाद आती है, ज़िन्दगी में खुदा हर ख़ुशी दे तुम्हे, हमारी तो हर ख़ुशी आपकी ख़ुशी के बाद आती है

 

जब भी मुझे याद तुम्हारी आती है, लबों पर मेरे बस यही फरियाद आती है, जिंदगी में खुदा हर खुशी दे तुम्हें, हमारी तो हर खुशी आपकी खुशी के बाद आती है

 

अक्सर तन्हाई में उन्हें याद किया करते हैं, बस यूं बेवजह खुद से ही उनकी बात किया करते हैं, चाहत तो है चाहत से ज्यादा उन्हें पाने की फ़रियाद  हैं, लेकिन तुम हमारी बातो को क्यों नज़रअंदाज़ करते हो

 

जब तन्हाई में आपकी याद आती है, होंठो पे एक ही फरियाद आती है, खुदा आपको हर खुशी दे, क्यूंकी आज भी हमारी हर खुशी आपके बाद आती है.

 

दिल मे हमने तुम्हारे प्यार की दास्तान लिखी हैं, ना थोड़ी ना तमाम लिखी हैं, कभी हमारे लिए भी दुआ कर लिया करो सनम, हमने तो हर एक साँस तुम्हारे नाम लिखी हैं

 

ए सूरज मेरे अपनों को ये पैगाम भेज दे,

खुशियों का  गुड अफ्टर्नून और हँसी की शाम भेज दे।

जब कोई पढ़े मेरे इस पैगाम कोg

तो उनके चेहरे पर प्यारी सी मुस्कान दे दे।

- शुभ दोपहर

 

पंछियों ने मधुर कंठ खोलकर गाना गाया

तो मेरे लबों पर ये संदेश आया

खिलती हुई धूप की महफ़िल और पंछियों का बसेरा आपको मुबारक हो।

आपको ये नया दोपहर मुबारक हो!

 

सूरज चाचू ऊपर चढ़ पड़े हैं,

और तपती गर्मी से हमें तड़पाते हैं।

 दोपहर का खाना अब पेट को जाना है,

फिर तकया पकड़कर चैन की नींद सो जाना है।

- शुभ दोपहर

 

स्वर्ग की महलों में हो महल आपका, 

सपनों की वादी में हो शहर आपका, 

खिलती हुई आंगन में हो घर आपका, 

दुआ करता हूं खूसूरत हो ये दिन आपका।

- गुड आफ्टरनून!

 

नया दोपहर और नई धूप है,

और इस धूप में प्रकाश की उमंग है,

काम छोड़कर अब तुम आओ जल्दी से

बिन तेरे दोपहर का भोजन करना मुश्किल है।

 

शुभ दोपहर वाली सूरज मेरे अपनों को पैगाम देना

कि तेज़ धूप दोपहर होने के बाद बिल्कुल भी घर से मत निकलना।

 

सूर्य देवता कड़कती हुई धूप देते रहेंगे,

उस धूप में हम पसीने में भीगते रहेंगे,

दुआ करता हूँ हमें ac वाली हवा मिल जाए

वरना हम इस गर्मी में जलते रहेंगे।

 

ये दोपहर का आलम भी अजीब हैं

तन में भरी सुस्ती भी क्या चीज हैं

एक तरफ काम का बोझ सताता हैं

दूसरी तरफ मूँछो वाला खडूस बॉस याद आता हैं

Tags - गुड आफ्टर नून शायरी, दोपहर की शुभकामनाये, Good Afternoon Shayari For Whatsapp, Dopahar ke liye suvichar in Hindi, शुभ दोपहर संदेश, शुभ दोपहर स्टेटस, good afternoon Hindi Shayari, Dopahar Shayari in Hindi for FB, Good afternoon Shayari caption, Good Afternoon Wishes in Hindi.

 हर दिन नये नये स्टेटस और शायरी पाने के लिए अभी Bookmark करें StatusCrush.in को।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ