350+ इग्नोर शायरी | Ignore Status Shayari in Hindi 2022

हेलो दोस्तों, जब कभी आपके किसी प्रियजन दुबारा आपको इग्नोर किया जाता है। तब सबसे ज्यादा नराशा होती है। इस लिए, आज की इस पोस्ट में हम आपके लिए Ignore Shayari लेकर आये है। अगर आप भी Ignore Shayari ढूंढ रहे है तो आपको आज की इस पोस्ट में Ignore Shayari मिलेगी। आप इन स्टेटस को अपने सोशल मीडिया पर शेयर कर सकते है। उम्मीद है कि आपको यह पोस्ट पसंद आएगी।

Ignore Shayari

इग्नोर शायरी | Ignore Status Shayari in Hindi 2022

हमेशा हमारा चेहरा देखते हो

कभी हमारे दिल पर भी गौर कर लो

कभी तो मोहब्बत की सोचो

कभी तो हवस को Ignore कर लो !!


यदि कोई मुझे नजरअंदाज कर दे तो

मैं बुरा नहीं मानता

लोग अक्सर औकात के बाहर महंगी चीजों

को नजरअंदाज कर देते हैं !!


हमने चरागों को नजरअंदाज किया

अपनों की खुशी के लिए

उसने हमें ही ठुकरा दिया

गैरों की हँसी के लिए !!


किसी को इतना भी अनदेखा मत करो

की उसे तुम्हारी झलक भर से

नफरत हो जाए !!


नज़रअंदाज़ हमे करते हो सही भी है

नज़र से नज़र मिली तो कयामत होगी !!


ये रोज़ रोज़ का तेरा नज़रअंदाज़ करना

लो आज तुमको हमसे दूर कर दिया !!


नहीं देखा जाता मुझसे जब तुम

मुझे Ignore करते हो

हमारे साथ सो कर जब अंगड़ाई

तुम कहीं और भरते हो !!


हवस भरी निगाहों से देखना

कुछ मर्दों की फितरत है

उसे नजर अंदाज करना

औरत की खूबसूरती है !!


बहुत नजरअंदाज करने लगी हो

अब तुम

लगता हैं कोई

नया आ गया हैं ज़िन्दगी में !!


ये कह कर वो मेरे Messages को

Ignore करता है की मेरा यूँ बेफिज़ूल

इश्क़ की बातें करना उसे अब Bore करता है !!


आज कर लो मुझे नज़रअंदाज़ आगे से आता देख कर, जब मेरा वक़्त आएगा तब आवाज़ भी दोगे तो मूढ़ कर नहीं देखूँगा।


ऐसा नहीं की उसने मुझे आज देखा नहीं बस नफरत की वजह से उसने मेरी और देखा नहीं।


उनकी गलतियां नज़रअंदाज़ कर मैं उन्हें मौके देता रहा, वो मुझे बेवकूफ समझ प्यार के नाम पर धोके देता रहा।


ये जिस्म की मोहब्बतें है साहब यहाँ सच्चे दिल को नज़रअंदाज़ कर झूठे चेहरे को प्यार मिलता है।


हमे गम दे कर वो हम से नाराज़ हो गए, हम भी अपने गम भुला कर उनसे माफ़ी मांगने लगे।


हमेशा हमारा चेहरा देखते हो कभी हमारे दिल पर भी गौर कर लो, कभी तो मोहोब्बत की सोचो कभी तो हवस को Ignore कर लो।


किसी को इतना भी अनदेखा मत करो की उसे तुम्हारी झलक भर से नफरत हो जाए।


नहीं देखा जाता मुझसे जब तुम मुझे Ignore करते हो, हमारे साथ सो कर जब अंगड़ाई तुम कहीं और भरते हो।


ये कह कर वो मेरे Messages को Ignore करता है, की मेरा यूँ बेफिज़ूल इश्क़ की बातें करना उसे अब Bore करता है।


मेरे जानने वालों ने मेरे बुरे वक़्त में मुझे ऐसे Ignore किया जैसे वो मुझे जानते तक नहीं।


चाहत की शुरुवात हुई थी जब हम दोनों एक दूसरे को देखते रह गए थे और चाहत ख़त्म हो गई उस दिन जब दोनों ने एक दूसरे को देख कर भी अनदेखा कर दिया।


जब आज तुमने मुझे अनदेखा कर दिया तब जा कर मुझे समझ आया की वो जो आज तक तुमने मुझे प्यार दिखाया था वो बस।


वो जो मुझे देखना भी नहीं चाहते है वो मुझे अचानक चाहते हैं जब उन्हें काम आते हैं।


वो अब हमे देखता भी नहीं, ये अब हमसे देखा नहीं जाता।


दिल चुराकर मेरा अब निगाहें भी चुराते हो, शर्म करो अपने याद करने वालों को भूलते हैं।


अब देखना नहीं चाहते या तुम्हे दिखना नहीं मैं, सोचता बहुत हूँ तेरे बारे बस अब लिखता नहीं हूँ मैं।


उसने देखना बंद कर दिया मैंने उनकी ज़िन्दगी में दखल देना बंद कर दिया।


आ नहीं रहे हो नज़र जब से लिखने लगें हैं नज़म तब से,खाली हुआ दिल जब से भरे नहीं ज़ख्म तब से।


अनदेखा कर रहे हो आज एक दौर ऐसा भी लाऊंगा जब देखने को तरसोगे।


पहले जो मेरे सिवाय कुछ और नहीं देखना नहीं चाहते थे आज मेरी और नहीं देखते ही नहीं।


जो थकता नहीं था कल देखते मुझे आज बदल गया देखते ही देखते।


महफ़िल में बुलाकर भुला देते हैं वो हमे जैसे हम सा कोई वहां आया ही नहीं।


जो देख नहीं रहे हैं देख कर भी हमे उन्हें दिखा दूंगा एक दिन मैं क्या हूँ।


मैं दीखता हूँ उसे ज़रुरत पड़ने पर, जब ज़रुरत नहीं होती तो मेरा ज़िकर भी नहीं होता।


ऐसा नहीं है की मैं अब उन्हें और नहीं चाहता

अब उनका हमे यूँ अनदेखा करना

हम से और देखा नहीं जाता !!


नजरअंदाज करने की वजह

कुछ तो बताती तुम

अब मै कहाँ कहाँ खुद की

बुराइयाँ ढूंढू !!


दिल से तेरी याद को जुदा तो नहीं किया

रखा जो तुझे याद कुछ बुरा तो नहीं किया

हम से लोग हैं नाराज़ किस लिये

हमने कभी किसी को खफा तो नहीं किया !!


अब यूँ ना जा मेरे प्यार को अनदेखा कर

मेरी जुबां झूठी लग रही है तो कम से कम

एक दफा तो इन सच्ची आँखों में देखा कर !!


उन लोगों को कभी नजरअंदाज मत करो

जो तुम्हारी परवाह करते हैं

और उन लोगों की कभी परवाह मत करो

जो तुम्हे नजर अंदाज करते हैं !!


तुम भी चाहत के समन्दर में उतर जाओगे

खुशनुमा से किसी मंजर पे ठहर जाओगे

मैने यादों में तुम्हें इस तरह पिरोया है

मै जो टूटी तो सनम तुम भी बिखर जाओगे !!


जब से मेरी चाहत मेरा उत्तवालापन

उसे Bore करने लगी है

तब से मेरी चाहत मुझे चाहकर भी

Ignore करने लगी है !!


मुझे नजरअंदाज ही करना हो तो

शिद्दत से करना

कहीं नज़र आ गया तो

अंदाज बदल जायेगा !!


जब कोई नज़र में रख कर भी

नज़रअंदाज करे

तो समझिये की

उसकी नज़र आप पर ही है !!


हुस्न को हुस्न बनाने में

मेरा हाथ भी है

आप मुझ को

नज़र-अंदाज़ नहीं कर सकते !!


ना जाने ऐसा क्या गुन्हा किया है

मैंने की !


मोहब्बत है इसलिए

कभी नज़रअंदाज़ नहीं किया

वरना बेरुख़ी तुमसे भी

अच्छी निभा सकते हैं !!


तेरी हर अदा पर प्यार आता हैं

सिवाय नजरअंदाज करने के !!


आज कर लो मुझे नज़र अंदाज़

आगे से आता देख कर

जब मेरा वक़्त आएगा तब आवाज़ भी दोगे

तो मूढ़ कर नहीं देखूँगा !!


काश तुझे मेरी जरूरत हो

मेरी तरह

और मैं तुझे नजर-अंदाज करूं

तेरी तरह !!


बारिश के दौरान सारे पक्षी आश्रय की तलाश करते हैं

लेकिन बाज बादलों के ऊपर उड़कर बारिश को ही

नजरअंदाज कर देते हैं !!


ऐसा नहीं की उसने मुझे

आज देखा नहीं बस

नफरत की वजह से

उसने मेरी और देखा नहीं !!


नज़रअंदाज़ करने की सजा देनी थी तुमको

तुम्हारे दिल में उतर जाना ज़रूरी हो गया था !!


तकलीफ ये नही की उंन्हे

अजीज कोई और है

दर्द तब हुआ

जब हम नजरअंदाज किये गये !!


उनकी गलतियां नज़र अंदाज़ कर

मैं उन्हें मौके देता रहा वो मुझे बेवकूफ

समझ प्यार के नाम पर धोके देता रहा !!


जैसा हूँ वैसा रहूँगा

तुम बेशक़ मुझे नज़रअंदाज़ कर लेना !!


जानता हूँ मैं की मुझसे गलती हुई है, पर मुझे इस तरह नजरअंदाज कर इतनी बड़ी सजा तो मत दे।


पता नहीं इस दिल को क्या हो रखा है, ये चाहता उसे है जिसने इसे नजरअंदाज कर रखा है।


आज के जमाने में लोग ना जाने ऐसा क्यों करते है, किसी शक्श से मतलब पूरा होते ही वह फिर उसे नजरअंदाज करते है।


अपनी जिंदगी में हमेशा एक बात याद रखना, जो लोग तुम्हे दिल से चाहते है उन्हें भूलकर भी कभी नजरंअदाज मत करना।


जिस शक्श के दिल में सिर्फ मतलब पूरा करने की भावना हो, उस शक्श को तुम हमेशा Ignore करो।


जिन्दगी आसान नही होती है, इसे आसान बनाना पड़ता है, कुछ को नजरअंदाज करके, कुछ को बर्दास्त करके।


मेरा दिल उस दिन सबसे ज्यादा रोया था, जिस दिन तूने इसे बड़ी शिद्दत से नजरअंदाज किया था।


दिल ही दिल में आज भी वो मुझे प्यार करता है, गैरों के कहने पर वो मुझे नजरअंदाज करता है।


जिसने सच्चे मोहब्बत को इग्नोर कर दिया, उसने अपने दामन में सिर्फ दर्द भर लिया।


तुम क्या समझोगी कितनी सिद्दत से मैंने मोहब्बत की, नजरअंदाज करके जिंदगी भर के लिए गम की सजा दी।


इग्नोर करके वो हमारा दिल दुखाते हैं, क्यों नहीं? सामने से दिल पर खंजर मारते हैं।


मेरे अंदर एक बहुत खास खुभी हैं, जो लोग मेरे लायक नहीं होता उन्हें में हमेशा नजरअंदाज करना ही बेहतर समझता हूँ।


हमसे मिलना तो दूर की बात है, वो तो हमारे मैसेज ही इग्नोर करने लगे है।


तेरी बेरुखी का इक दिन, ये ही अंजाम होगा, आखिर भुला ही देंगे तुझे, याद करते करते।


इग्नोर करने की भी हद होती है, लेकिन उनकी हद तो हद से भी ज्यादा बढ़ती जा रही है।


ये दिल उस दिन से खामोश बैठा है, जिस दिन से उन्होंने हमें नजरअंदाज करना शुरू किया है।


खुशियों को मैने

नज़रअंदाज़ नहीं किया

खुशियाँ खुद मुझसे

आजकल नज़र बचाने लगी हैं !!


देखा है सबने मुझे गम में चूर होते हुए

बस ये मदद न मांग ले इस वजह से

कोई मेरा हाल नहीं पूछता !!


मैंने सब कुछ नज़र-अंदाज़ किया हैं

वरना तुम तो मुझे कब का खो देते !!


कमजोर लोग बदला लेते हैं

शक्तिशाली लोग माफ कर देते हैं

बुद्धिमान लोग नजर अंदाज कर देते हैं !!


ये जिस्म की मोहब्बतें है साहब

यहाँ सच्चे दिल को नज़रअंदाज़ कर

झूठे चेहरे को प्यार मिलता है !!


उदासी तुम पे बीतेगी तो

तुम भी जान जाओगे

कि कितना दर्द होता है किसी के

नज़रअंदाज़ करने से !!


नज़रअंदाज़ तुम इस तरह ना करो की

हम टूट कर बिखर जाए

और तुझे मेरे मरने की खबर आये !!


हमे गम दे कर वो हम से नाराज़ हो गए

हम भी अपने गम भुला कर

उनसे माफ़ी मांगने लगे !!


नज़र अंदाज़ मत करना

उन्हें नाराज़ मत करना

की थी जो कल गलतियां

उन्हें आज मत करना !!


नज़रअंदाज़ करते हो तो

हट जाते है निगाहों से हम

इन्ही नज़रों से ढूंढोगे

जब नज़र ना आयेंगे हम !!


कोशिशे जारी थी

नज़ारे मिलाने की और

उन्होंने नज़रअंदाज़ करना

बेहतर समझा !!


वो आज करते है नजरअंदाज

तो बुरा क्या मानू मैं

टूटकर पागलो की तरह मोहब्बत भी तो

सिर्फ मैंने की थी !!


तिनका-तिनका हर रोज़

जोड़ता हूँ खुद को

तेरा नज़रअंदाज़ करना

फिर तोड़ देता हैं मुझको !!


हमने उनसे मोहोब्बत का और उन्होंने हमसे नफरत का आगाज़ कर दिया, हमने उन्हें प्यार से देखा और उन्होंने हमे नज़रअंदाज़ कर दिया।


ऐसा नहीं है की मैं अब उन्हें और नहीं चाहता, अब उनका हमे यूँ अनदेखा करना हम से और देखा नहीं जाता।


अब यूँ ना जा मेरे प्यार को अनदेखा कर, मेरी जुबां झूठी लग रही है तो कम से कम एक दफा तो इन सच्ची आँखों में देखा करो।


जब से मेरी चाहत मेरा उत्तवालापन उसे Bore करने लगी है, तब से मेरी चाहत मुझे चाहकर भी Ignore करने लगी है।


ऐसा नहीं था हमने देखा नहीं पहले भी उन्हें हमे यूँ धोका देते, पर दिल ने उसे अनदेखा कर कहा चल छोड़ एक और मौका देदे।


ज़िन्दगी जीने का कुछ यूँ अंदाज़ कीजिए, जिनकी नज़र में खटकते हैं आप ऐसे लोगों को नज़रअंदाज़ कीजिए।


हमे ज़ख्म देकर उसने हम से हमारा हाल पूछा, दिल ने दाद दी दिल से कहा वाह जनाब क्या सवाल पूछा।


जो आपकी खूबियां छोड़ हर दफा आपकी कमियों पर गौर करें, बेहतर यही होगा की आप उन्हें Ignore करें।


जब ज़िन्दगी में मुसीबतों के मुकाम आ जाते हैं, मेरे अपनों को उस वक़्त मुझसे ज्यादा जरूररी काम आ जाते हैं।


देखा है सबने मुझे गम में चूर होते हुए, बस ये मदद न मांग ले इस वजह से कोई मेरा हाल नहीं पूछता।


ना जाने ऐसा क्या गुन्हा किया है मैंने की मेरे अपनों को जब भी मैं ज़ख्म दिखाता हूँ तो वो अनदेखा कर देते हैं और जब भी अपने गम सुनाऊँ तो अनसुना कर देते हैं।


तेरा मुझे नज़रअंदाज़ करने से कुछ नहीं बदला, देख बादल भी वही है ये रात भी वही हैं और चाँद भी वही है।


नहीं चाहते तो बताया भी करो, यूँ Ignore कर हमे ऐसे सताया मत करो।


पहले जो मेरी एक झलक को मरते थे आज मुझे देख कर मरने को हो जाते हैं।


एक कड़वा सच जान लेना ज़िन्दगी का लोग तुमसे काम होने पर ही तुम्हे गले लगाते हैं वरना तुम्हारे चेहरे के सामने आने के बावजूद भी मुँह तक नहीं लगाते।


अगर दुनिया तक अपनी आवाज़ पहुंचाना चाहते हो तो इन दुनिया वालों की बातों को ज़रा कम सुना करो।


फिर बस तन्हाई ही तुम्हारे दर्द की दवा हो जाएगी, मैं जो Ignore करने पर आया तो सारा टशन हवा हो जाएगी।


जिनका हमे देखे बिना दिन नहीं होता था, आज हमे रास्ते में अनदेखा कर रहे हैं सच में यकीन नहीं होता।


ये जो अकड़ है तुम्हारी हमे अनदेखा करने की, ये तब कहाँ चली जाती है जब तुम्हे मेरी ज़रुरत पड़ती है।


एक बात समझ लेना अगर इस दुनिया में जीना है तो, तुम किसी के लिए तब तक ही ज़रूरी हो जब तक उन्हें तुम्हारी ज़रुरत है।


अनजान तो तब भी थे अनजान तो आज भी हैं, बस फ़र्क़ इतना है तब तुम मुझे जानती नहीं थी और आज जान बूझकर अनजान बनती हो।


पता है क्या बदला है हमारे बीच पहले मुझे देखे बिना तुम्हारी सुबह नहीं होती थी, और अब कई रातें बीत जाती हैं पर तुम मुझे देखने नहीं आती।


ना जाने क्यों वो अब हमें इतना नजरअंदाज करने लगे हैं, लगता हैं शायद वो अब किसी और से प्यार करने लगे हैं।


जितना चाहे उतना नजरअंदाज कर लीजिये हमें, पर एक बात याद रखना एक दिन इसी चेहरे को देखने के लिए तरस जाएँगी आप।


जिसने सच्चे मोहब्बत को इग्नोर कर दिया, उसने अपने दामन में सिर्फ दर्द भर लिया।


इग्नोर केवल वही शक्श करता है जिसमें नजरे मिलाने की जुर्रत नहीं होती।


अगर कोई नजर अंदाज करें, उसके बाद उसे नजर अंदाज करने का मजा ही अलग होता हैं।


नजरअंदाज करना तेरा मुझे मार जाता है, बाकि तेरी हर इक अदा पर प्यार आता है।


ख़ुद को इतना काबिल बना लो कि कोई नजरअंदाज करने से पहले हजार बार सोचे।


अगर है जिद जाने की तो सोचता क्या हैं, अब तेरा मुझ से वास्ता ही क्या है।


काश तुझे मेरी जरूरत हो मेरी तरह, और मैं तुझे नजर-अंदाज करूं, तेरी तरह।


रिश्तो को नजर अंदाज करने सें, रिश्ते बनते नहीं, बिगड जाते हैं


जब हालात बद से बदत्तर हो जाते है तब अक्सर अपने ही हमें इग्नोर करने लग जाते है।


कमजोर लोग बदला लेते हैं. मजबूत लोग माफ़ कर देते हैं और बुद्धिमान लोग नजर अंदाज करते हैं।


हमें शायर समझ के यूं नजर अंदाज न करिये, नजर हम फेर ले तो तेरी चाहतों का बाजार गिर जायेगा।


खुद को आबाद और हमे बर्बाद करके, देख रहे हैं नज़ारे हमे नज़रअंदाज़ कर के।


क्यों ग़मों में मेरे इज़ाफ़ा और कर रहे हो, क्यों मुझे इस तरह Ignore कर रहे हो।


अभी मिल रहा हूँ देखने को तो देख नहीं रहे मुझे जब खो जाऊंगा कहीं तो ढूंढोगे मुझे।


जो Ignore करे बेहतर है की उनसे दूर चले।


जो सामने आ जाते थे चेहरे के हमारे आज छुप रहे हैं पीठ पीछे किसी और के।


वो मेरे लिए अधिक मैं उसके लिए अलप, वो मेरे लिए अनिवार्य है मैं उसके लिए विकल्प।


तरस गए जिसे एक निगाह देखने को वही हमे नज़रअंदाज़ करने लगे हैं।


मुझे जिनके आगे कुछ और दीखता नहीं वो मेरे सिवाय सब कुछ देखते हैं।


मेरी नज़रे पढ़ लेता जो तो मेरी मोहोब्बत को कभी नज़रअंदाज़ ना करते।


खामियां मेरी शख्सियत

मैं शायद रही है बेहिसाब

वरना यूं ही मेरी खुशियां

नहीं करता वो नजरअंदाज..!


दिल में बहुत दर्द है

लेकिन रोना नही

यह वक्त है मजबूत

बनने का इसे खोना नही..!


इश्क तो उनको भी है

हमसे लेकिन उनके पास

गजब का हुनर है हमारी

मोहब्बत को इग्नोर करने का !


जितनी मोहब्बत मुझे है तुमसे

तुम्हें भी उतनी ही मुझसे हो जाए

जिस तरह से इग्नोर करते हो तुम मुझे

काश ऐसी कोई आदत मुझे भी लग जाए..!


नफरत हो गई है खुद से

जबसे तुमसे मोहब्बत की है

नजरअंदाज तुम करते हो हमें

और सजा हमने खुद को दी है..!


आज नजर में रखा

कल नजरअंदाज कर दिया

ऐसा नहीं चलता है यार जब

मन किया तब इस्तेमाल कर लिया..!


हमने उनसे मोहब्बत का और उन्होंने

हमसे नफरत का आगाज़ कर दिया

हमने उन्हें प्यार से देखा और

उन्होंने हमे नज़रअंदाज़ कर दिया !!


नजरअंदाज करना तेरा

मुझे मार जाता है

बाकि तेरी हर इक अदा

पर प्यार आता है !!


कौन था अपना जिस पे इनायत करते

हमारी तो हसरत थी हम भी मोहब्बत करते

उसने समझा ही नहीं मुझे किसी काबिल

वरना उसे प्यार नहीं उसकी इबादत करते !!


ऐसा नहीं था हमने देखा नहीं पहले भी

उन्हें हमे यूँ धोका देते

पर दिल ने उसे अनदेखा कर कहा

चल छोड़ एक और मौका देदे !!


बहुत नजरअंदाज करने लगी हो

तुम आजकल

बाज आ जाओ वरना

इन्ही आँखो से ढुढती फिरोगी एक दिन !!


किसी ने मुझसे पूछा कि

तुम्हारा अपना कौन है

मैने हँसते हुए कहा

जो किसी और के लिए

मुझे नज़रअंदाज़ ना करे !!


ज़िन्दगी जीने का कुछ यूँ अंदाज़ कीजिए

जिनकी नज़र में खटकते हैं आप

ऐसे लोगों को नज़र अंदाज़ कीजिए !!


हमे ज़ख्म देकर उसने हम से हमारा हाल पूछा

दिल ने दाद दी दिल से कहा

वाह जनाब क्या सवाल पूछा !!


नजरअंदाज करने वाले

तेरी कोई ख़ता ही नही

मोहब्बत क्या होती है

शायद तुझको पता ही नही !!


कुछ यूँ मिली नज़रे उनसे

कि बाकी सब नजरअंदाज हो गए !!


जो आपकी खूबियां छोड़ हर दफा आपकी

कमियों पर गौर करें बेहतर यही होगा की

आप उन्हें Ignore करें !!


कभी नज़रअंदाज़ मत करो उसको

जो तुम्हारी बहुत परवाह करता हो

वरना किसी दिन तुम्हे एहसास होगा

कि पत्थर जमा करते करते

तुमने हीरा गवां दिया !!


भूलें नहीं है तुमको

और ना कभी भूलेंगे

बस तुमको नजरअंदाज कर रहे हैं

बिल्कुल तुम्हारी तरह !!


जब ज़िन्दगी में मुसीबतों के मुकाम आ जाते हैं

मेरे अपनों को उस वक़्त मुझसे ज्यादा जरूररी

काम आ जाते हैं !!


नजरअंदाज न किया करो

तुम फितरत मेरी

पता है न कि मैं

सर पर सवार भी हो जाता हूँ !!


सुनो तुम लाख छुपाओ मुझसे

जो रिश्ता है तुम्हारा

सयाने कहते हैं

नजरअंदाज करना भी मुहब्बत है !!

हर दिन नये नये स्टेटस और शायरी पाने के लिए अभी Bookmark करें StatusCrush.in को।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ