180+ Best Feelling Alone Status in Hindi Shayari for Whatsapp

180+ Best Feelling Alone Status in Hindi Shayari for Whatsapp

Alone Status Shayari in Hindi - हेलो दोस्तों आज हम आपको इस पोस्ट में हम आपके लिए Alone Status Shayari in Hindi में लेकर आये है। अगर दोस्तों आप Alone Status Shayari ढूंढ रहे है तो हो सकता है कि आपको किसी ने hurt किया हो। दोस्तों इस पोस्ट में बहुत सारे Alone Status मिल जाएंगे। उम्मीद है कि आपको यह पोस्ट पसंद आएगी।
180+ Best Feelling Alone Status in Hindi Shayari for Whatsapp

180+ Sad feeling alone status shayari in hindi

तुम्हारे बिना रह तो सकती हूँ... मगर.. खुश नहीं रह सकती

बड़ी अजीब सी मोहब्बत थी तुम्हारी..पहले पागल किया.. फिर पागल कहा.. और फिर पागल समझ कर छोड़ दिया

कैसे छोड दूं आखिर तुझसे मोहब्बत करना...तू मेरी किस्मत में ना सही.. दिल में तो है

किस्मत और दिल की आपस में कभी नहीं बनती ! जो लोग ♥ दिल में होते है ! वो किस्मत में नहीं होते

अब तो मोहब्बत 💕भी सरकारी नौकरी 🎓 जैसी लगती है, कम्बख्त ग़रीबों 👳 को तो मिलती ही नहीं

थोडा इंतजार कर ए दिल, उसे भी पता चल जाएगा की उसने खोया क्या है !

मत किया कर ऐ दिल किसी से मोहब्बत इतनी , जो लोग बात नहीं करते वो प्यार क्या करेंगे. ..!

आँखों में देखी जाती हैं.. प्यार की गहराईयाँ...शब्दों में तो छुप जाती हैं.. बहुत सी तन्हाईयाँ....

डाल कर...आदत बेपनाह मोहब्बत की...अब वो कहते है...कि...समझा करो वक़्त नही है... Pensive facePensive face

क्या गिला करें उन बातों से​ ​क्या शिक़वा करें उन रातों से​​​ ​​कहें भला किसकी खता इसे हम​ ​​कोई खेल गया फिर से जज़बातों से

अच्छी लगती है ये खामोशियाँ भी अब हर किसी को जवाब देने का सिलसिला ख़त्म हो गया।

चुप रहना मेरी ताक़त है कमज़ोरी नहीं, अकेले रहना मेरी चाहत है,मजबूरी नहीं।

कुछ रुकी रुकी सी है ज़िन्दगी,कुछ चलते फिरते से है हम।

तजुर्बे ने एक ही बात सिखाई है,नया दर्द ही पुराने दर्द की दवाई है।

क्यों लगता है वो आसपास है जिसका दूर तक कोई सुराग नहीं।

#कभी तो #उसको भी ये #_एहसास होगा,
की मैंने #उससे चाहा था #सारी _दुनिया छोड़ कर !!

 #जब भी मै #_सुकून के #बारे में सोचता हू,
तो #मुझे बस #तेरी _बाहों का ही #ख्याल आता है !!

 #दूरियों का _गम नहीं #अगर _फासले #दिल में न हो,
#नजदीकियां _बेकार है अगर #जगह _दिल में ना हो !!

हम ना पा सके तुझे मुदतो के चाहने के बाद , ओर किसी ने अपना बना लिया तुझे चंद रसमे निभाने के बाद !!

खुशीयां तो कब से रूठ गई हैं मुझसे, काश इन गमों को भी कीसी की नजर लग जाये ।

काश ! वो सुबह नींद से जागे तो मुझसे लड़ने आए, कि तुम होते कौन हो मेरे ख़्वाबों में आने वाले

कोन कहता है कि आसुयो मे वजन नहीं होता , एक भी छलक जाता है तो मन हल्का हो जाता है ...

लोग कहते है के जब कोई अपना दूर चला जाए तो तकलीफ होती है, परन्तु असली तकलीफ तोह तब होती है जब कोई अपना , पास होकर भी दूरियां बना ले !

तुम क्या जानो हम अपने आप में कितने अकेले है , पूछो इन रातो से जो रोज़ कहती है के खुदा के लिए आज तो सो जाओ !

सच कहा था किसी ने तन्हाई में जीना सीख लो मोहब्बत जितनी भी सच्ची हो साथ छोड़ ही जाती है.

उसने‬ कहा तुम सबसे ‪‎अलग‬ हो, ‪‎सच‬ कहा और कर दिया मुझे सबसे अलग

बिछड़ कर फिर मिलेंगे यकींन कितना था, था तो ख्वाब, मगर हसीन कितना था

जिंदगी देने वाले , मरता छोड़ गये, अपनापन जताने वाले तन्हा छोड़ गये, जब पड़ी जरूरत हमें अपने हमसफर की, वो जो साथ चलने वाले, रास्ता मोड़ गये”

तुमने कहा था आँख भर के देख लिया करो मुझे, मगर अब आँख भर आती है तुम नजर नही आते हो।

यूँ ही कितनी आसानी से पलट जाते है कुछ लोग

बड़ी सादगी से उसने कह दिया, रात को सो भी लिया कर…. रातो को जागने से मोहब्बत लौट नहीं आती

मै तब भी अकेला नहीं था, नहीं आज भी हु, तब यारो का काफिला था, आज यादो का कांरवा है

कितने अनमोल होते है, ये यादों के रिश्ते भी , कोई याद ना भी करे, तो चाहत फिर भी रहती है

एक नफरत ही हैं जिसे दुनिया चंद लम्हों में जान लेती हैं…वरना चाहत का यकीन दिलाने में तो जिन्दगी बीत जाती हैं ।

क्यूँ उदास बेठे हो इस तरहा अंधेरे मैं, दुःख कम नहीं होते रौशनी बुझाने से

अच्छे इंसान मतलबी नहीं होते, बस दूर हो जाते हैं, उन लोगों से जिन्हें उनकी कद्र नहीं होती...

मुसाफ़िर हैं हम भी मुसाफ़िर हो तुम भी किसी मोड़ पर फिर मुलाक़ात होगी

चलो बिखरने देते है जिंदगी को सँभालने की भी हद होती है

यकीनन तुम्हें तलाशती हैं मेरी आंखें........ये बात अलग है हम ज़ाहिर नहीं होने देते.....

आज सारा दिन उदास गुजर गया, अभी रात की सजा बाकि है...

बदल दिया है मुझे मेरे चाहने वालो ने ही… वरना मुझ जैसे शख्स में इतनी खामोशी कहाँ थी...

दिल पर लग जाती है उन्हें अक्सर हमारी बातें , जो कहते थे तुम कुछ भी बोलो बुरा नहीं लगता...

यूँ ही भटकते रहते हैं अरमान तुझसे मिलने के, न ये दिल ठहरता है न तेरा इंतज़ार रुकता है

ये जो #रात को _जागते है ना..
ये #जानते है #किसी को #खोने का _दर्द !!

 #तुमने _समझा ही नहीं #कभी और न #समझना _चाहा,
हम #चाहते ही क्या थे #तुमसे _तुम्हारे सिवा !!

 #काश की वो #लौट आए #_मुझसे ये कहने,
की #तुम होते _कौन हो मुझसे दूर होने वाले !!

कोई पूछेगा तो सुबह का भूला कह देंगे, तुम आओ तो सही,हम शाम को सवेरा कह देंगे

इन् तरसती निग़ाहों का ख़्वाब है तू, आजा के बिन तेरे बहुत उदास हूँ मैं..!!

"अकेले कैसे रहा जाता है , कुछ लोग यही सिखाने हमारी जिंदगी मे आते है

मेरा हाल देखकर मोहब्बत भी शर्मिंदा हैं,
की ये शख्स सब कुछ हार गया, फिर भी जिन्दा हैं...

 तकलीफ तो जिंदगी देती हैं,
मौत को तो लोग युही बदनाम करते हैं...!

 अभी जरा वक़्त हैं,
उसको मुझे अजमाने दो,
वो रो-रोकर पुकारेगी मुझे,
बस मेरा वक़्त तो आने दो...

 इंसान सिर्फ एक कारण से अकेला पड़ जाता हैं,
जब उसके अपने ही उसे गलत समझने लगते हैं..!

 #याद रखना भी #_हिम्मत का काम है,
क्यूकि #भूल जाना तो #आजकल _आम है !!

 #हमारे _पास तो बस #तेरी _यादें है,
#ज़िन्दगी तो उसे #मुबारक हो जिसके #पास तू है !!

 #दर्द की भी #अपनी #एक _अदा है,
ये #तो सहने वालो पर #ही _फ़िदा है !!

 कभी #मतलब के लिए तो #कभी _सिर्फ #दिल्लगी के लिए,
हर कोई #मोहब्बत _दुंड रहा है यहा #अपनी _ज़िन्दगी के लिए !!

 #नहीं मिली #यहाँ _वफ़ा हर #किसी को #मोहब्बत में,
कोई #सोता है #रात _भर तो कोई #रोता है रात भर !!


#कुछ हो न हो..
#सभी को #_ज़िन्दगी में एक #बार _सच्चा #प्यार जरूर होता है,
और वो #कभी _पूरा #नहीं होता !!

 #मोहब्बत कभी #_खत्म नहीं होती #सिर्फ बढती है,
या तो #सुकून बन कर या #दर्द _बन कर !!

 उस #शख्स से बस इतना #_ताल्लुक है मेरा,
की अगर वो #परेशान हो तो #_नींद मुझे नहीं आती !!

 अगर #तुम कहो तो मैं #_खुद को #भुला दूं,
तुम्हे #भूल जाने की #_ताक़त नहीं है !!

 कर #दिया न फिर से #तन्हा..
#_कसम तो ऐसे दी थी #जैसे _तुम सिर्फ मेरे हो !!

 #Relationship का क्या है वो तो #_खत्म हो जाया करती है,
लेकिन #दिल से _प्यार कभी #खत्म नहीं होता !!


 #दुनिया में वो _शख्स ही सबसे ज्यादा #उदास रहता है,
जो #अपने से #_ज्यादा किसी और की #फिकर करता है !!

मुझे भी सिखा दो भूल जाने का हुनर मैं थक गया हूँ हर लम्हा हर सांस तुम्हे याद करते करते

कितने शौक से छोड़ दिया तुमने बात करना जैसे सदियों से तेरे ऊपर कोई बोझ थे हम

मुझे किसी के बदल जाने का कोई गम नही बस कोई था जिससे ये उम्मीद नही थी

वक़्त पर ना जा वक़्त तो हर ज़ख्म की दावा है, आज तुमने हमे भुला दिया कल तुम्हे भी कोई भुला देगा

सुना था हमने दर्द अक्सर बेदर्द लोग देते हैं मगर हमारी दुनिया उजाड़ी है एक मासूम चेहरे ने

कोई तो कर रहा है मेरी कमी पूरी तभी मेरी याद उसे अब नहीं आती ..

तुम हो तोह कुछ कमी नहीं .... तुम नहीं तोह कुछ नहीं ..

तेरे बिना जीना बोहोत मुश्किल है ... और तुझे ये बताना और भी मुश्किल .

कभी ये मत सोचना की याद नहीं करते , हम रात की आखिरी और सुबह की पहली सोच हो तुम

थोड़ी जगह दे दे मुझे तेरे पास कहीं रह जाऊं मैं खामोशियाँ तेरी सुनु ओर दूर कहीं ना जाऊं मैं

नींद आएगी तोह इस तरह सोयेंगे मुझे जगाने के लिया लोग रोयेंगे

अकेले रहने का भी एक अलग सुकून हे | ना किसी के वापस आने की उम्मीद, ना किसी के छोड़ जाने का डर.....

मेरी मोहब्बत की कातिल मेरी ग़रीबी ठहरी उसे ले गए ऊँचे मकाँ वाले....!

छोड़ दिया अब हमनें उस बेवफा का इंतजार करना दोस्तों जब रात गुजर सकती है तो ज़िंदगी भी गुजर जाएगी

कल तक थी जो जान, आज बन गयी अनजान.

मैंने सुना था की मोहब्बत तो सात जन्म तक साथ देती हैं,
लेकिन हमे तो इस जन्म में ही छोड़ कर चली गई..!

Sad feeling alone status shayari in hindi

 आज फिर ठण्डी रोटी खाई,
माँ, आज फिर तुम बहुत याद आई...

 फायदा सबसे गिरी हुई चीज़ है,
लोग उठाते ही रहते हैं..!

 हालात सिखाते है, बाते सूनना और सहना..!
वरना हर शक्स फितरत से बादशाह ही होता है...

 वो न ही मिलती तो अच्छा था,
बेकार में मोहब्बत से नफरत हो गई..!


 ये इश्क प्यार मोहब्बत शौक अमीरों के हैं साहब,
हम गरीब तो बस खेलने के काम आते हिं इनके..

 कभी सोचा नहीं था, वो भी मुझे तनहा कर जाएगी,,
जो परेशान देख कर अक्सर कहती थी, मैं हूँ ना...

 किसी ने क्या खूब कहा हैं :-
ए मौत, जरा पहले आना "गरीब" के घर,
कफ़न का खर्च दवाओं में निकल जाता हैं....!

नींद से क्या शिकवा जो आती नहीं, कसूर तो उस चेहरे का है जो सोने नहीं देता !

मोहबत के सफ़र में नींद ऐसी खो गई, हम न सोए रात थक कर सो गई..!

मैने तो बस तुमसे बेइंतहा मोहबत कि है , ना तुम्हे पाने के बारे मे सोचा है ना खोने के बारे मे

मेरी मोहबत की मजार तो आज भी वहीं है, बस तेरे ही सजदे की जगह बदल गई..!!

याद हैं हमको अपने तीनो गुनाह ! एक तो मोहबत कर ली, दूसरा तुमसे कर ली और तीसरा बेपनाह कर ली...!

बहुत याद आते हो तुम , दुआ करो मेरी यादाश्ति चली जाये

जब मोहब्बत बे-पनाह हो जाये ना.. तोह फिर पनाह कही नही मिलती

वो बोलते रहे, हम सुनते रहे - जबाब आँखों में था , वो लफ्जों मे ढूढते रहे

कैसे गुज़र रही है सब पूछते है , कैसे गुजारता हु कोई नहीं पूछता

प्यार भी हम करें, इन्तजार भी हम, जताये भी हम और रोयें भी हम..

ढूंढ़ रहा हु लेकिन नाकाम हु अभी तक, वो लम्हा जिस में तुम याद ना आये,

मेरी कोशीश हमेशा ही नाकाम रही पहले तूझे पाने की और अब तुझे भुलाने की

आज भी एक सवाल छिपा है.. दिल के किसी कोने मैं.. की क्या कमी रह गईथी तेरा होने में.

कभी टूटा नहीं मेरे दिल से तेरी यादों का रिश्ता.. गुफ़्तगू किसी से भी हो ख़याल तेरा ही रहता है..

मिला क्या हमें सारी उम्र मोहब्बत करके, बस एक शायरी का हुनर, एक रातों का जागना..

मोत से तो दुनिया मरती हैं आशीक तो बस प्यार से ही मर जाता हैं

खेलने दो उन्हे जब तक जी न भर जाए उनका, मोहब्बत चार दिन कि थी तो शौक कितने दिन का होगा


दिल मेरा उसने ये कहकर वापस कर दिया... दुसरा दिजीए... ये तो टुटा हुआ है....

जिन्हें नींद नहीं आती उन्हीं को मालूम है सुबह आने में कितने जमाने लगते हैं


काम तो कुछ करती नहीं थक जाती हूँ बस तुम्हेे सोचते सोचते...।।

किस_किस बात का गिला करें इस बेवफा जमाने मे, किसी ने दोस्ती छोडी , किसी ने दिल तोड़ा , किसी ने वादे तोड़े और , किसी ने तनहा छोड़ा !!!

उसका वादा भी अजीब था कि जिन्दगी भर साथ निभायेंगे मैंने भी ये नहीं पुछा की मोहब्बत के साथ या यादों के साथ..!!

जिसके हो नहीं सकते उसी के हो रहे हैं हम...

किसी को क्या बताएं कितने मजबूर हैं हम , चाहा है एक तुम्हें और तुम्ही से दूर है हम

कोरा कागज़ था और कुछ बिखरे हुए लफ़्ज़... ज़िक्र तेरा आया तो सारा कागज़ गुलाबी हो गया...!

उदास छोड़ गया वो मुझको , खील उठता था मैं जिसके मुस्कुराने से ..!!

ज़िन्दगी के हाथ नहीं होते.. लेकिन कभी कभी वो ऐसा थप्पड़ मारती हैं जो पूरी उम्र याद रहता है

काश वो भी आकर हम से कह देमैं भी तन्हाँ हूँ ,तेरे बिन, तेरी तरह , तेरी कसम , तेरे लिए !

दिल तो करता हैं की रूठ जाऊँ कभी बच्चों की तरह फिर सोचता हूँ कि मनाएगा कौन….?

क़ाश कोई ऐसा हो, जो गले लगा कर कहे…!! तेरे दर्द से मुझे भी तकलीफ होती है

नसीब का सब खेल है वरना मोहब्बत तो हम भी दीवाने की तरह किये थे.

शाम नहीं पर बात वही. तू नहीं तो तेरी याद सही.

बस तेरी कामि है ए मौत, दिल वो ले गयी जान तू ले जा..

तेरी जगह आज भी कोई नहीं ले सकता , पता नहीं तेरी खूबी है या तेरी कमी

मरता था जिनके लिए वो अब मर गए है मेरे लिए.

वो जान गया हमें दर्द में भी मुस्कुराने की आदत है; इसलिए वो रोज़ नया दुःख देता है मेरी ख़ुशी के लिए।

इस दुनिया के लोग भी कितने अजीब है ना , सारे खिलौने छोड़ कर जज़बातों से खेलते हैं

उसे ये कोन बतलाये, उसे ये कोन समझाए कि खामोश रहने से ताल्लुक टूट जाते है

उसने पुछा जिंदगी किसने बरबाद की । हमने ऊँगली उठाई और अपने ही दिल पर रख ली ।

जिन्हें पता होता हैं। की अकेलापन क्या होता हैं । ऐसे लोग दुसरो के लिए । हमेशा हाज़िर रहते हैं ।

उसका वादा भी अजीब था , कि जिन्दगी भर साथ निभायेंगे मैंने भी ये नहीं पुछा की, मोहब्बत के साथ….. या यादों के साथ…

लोग कहते हैं जब कोई अपना दूर चला जाता है तो बड़ी तकलीफ होती है, पर ज्यादा तकलीफ तो तब होती है जब कोई अपना पास होकर भी दूरियाँ बना ले

"मुझे ये ‎❤ दिल‬ कि बीमारी‬ ना होती ‎अगर‬ तू इतनी ‪#‎प्यारी‬ ना होती..."

कैसे बनाऊँ तेरी यादों से दूरियां .......दो कदम जाकर सौ कदम लौट आती हूँ .......

बेशक मोहब्बत ना कर पर बात तो कर, तेरा यु खामोश रहना बड़ी तकलीफ देता है..

ऐ दिल तू क्यों रोता है , ये दुनिया है यहाँ ऐसा ही होता है.

दिल धोखे में है और धोखेबाज़ दिल में

बहुत कुछ पाने वाले बहुत कुछ खोया करते हैं , इस दुनिया में हस्सने वाले सबसे ज़्यादा रोया करते हैं

खुश तो वो रहते हैं जो जिस्मो से खेलते हैं , रूह से मोहब्बत करने वालो को अक्सर तड़पते देखा है

किसी रोज़ मिलने से प्यार हो या न हो लेकिन किसी रोज़ बात करने से उसकी आदत जरूर हो जाती है

दोबारा इश्क़ हुआ तो तुझसे हे होगा खफा हूँ मैं बेवफा नहीं

रोज़ नहीं पर कभी कभी तो वो शख्स मुझे जरूर सोचता होगा

शिकायत तो खुद से है तुम से तो आज भी इश्क़ है

जाने कैसे हो जाते हैं लोग कभी इसके कभी उसके और फिर किसी और के

कमाल करता है तू भी ए दिल उसे फुर्सत नहीं है और तुझे चैन नहीं

लाख तेरे चाहने वाले होंगे मगर तुझे महसूस सिर्फ मैंने किया है

मत पूछ कैसे गुजर रही है जिंदगी , उस दौर से गुजर रहा हूँ जो गुजरता ही नहीं है

बस इतना सा असर होगा हमारी यादों का, कि कभी-कभी तुम बिना बात के मुस्कुराओगे.

जिसकी सजा तुम हो, मुझे ऐसा कोई गुनाह करना है.

क्या कहें कुछ नहीं है कहने को, हाय क्या गम मिला है सहने को

खामोशियां बेवजह नहीं होती, कुछ दर्द आवाज छीन लिया करते हैं.

ना शाखों ने जगह दी ,, ना हवाओं ने बख्शा..! मैं हूँ टुटा हुआ पत्ता . आवारा ना बनता तो क्या करता

अब इन आँखों से भी जलन होती हैं मुझे ! खुली हो तो याद तेरी, और बंद हो तो ख्वाब तेरे !

बहुत शौक से उतरे थे इश्क के समुन्दर में.. पहली ही लहर ने ऐसा डुबोया कि आज तक किनारा ना मिला

छोड दी हमने हमेशा के लिए उसकी आरजू करना…जिसे मोहब्बत की कद्र ना हो उसे दुआओ मे क्या मांगना

किताबों की तरह हैं हम भी….अल्फ़ाज़ से भरपूर, मगर ख़ामोश….!!

ना शाख़ों ने जगह दी ना हवाओ ने बक़शा, वो पत्ता आवारा ना बनता तो क्या करता…..!!

मोत से पहेले भी ऎक मौत होती हे..! देखो जरा तुम जुदा होकर किसी से..!

तेरी मोहब्बत को कभी खेल नही समजा , वरना खेल तो इतने खेले है कि कभी हारे नही….!

“जो रहते हैं दिल में, वो जुदा नही होते, कुछ अहसास लफ़्ज़ों में बयान नही होते

कितनी जल्दी फैसला कर लिया जाने का, एक मौका भी नहीं दिया मनाने का

वो मन बना चुके थे दूर जाने का, हमे लगा हमे मनाना नहीं आता

वो शख्स एक छोटी सी बात पे यूँ चल दिया , जैसे उसे सदियों से किसी बहाने की तलाश थी .

हम तो खुशियाँ उधार देने का कारोबार करते हैं साहब, कोई वक़्त पर लौटता नहीं हैं इसलिए घाटे मे है .

उसको मालूम तो हैं मेरे हालातो के बारे मे, फिर खैरियत पूछकर मेरी मुश्किलें क्यों बढ़ाते हैं |

मोहब्बत नहीं है उसे मुझसे ये जानता हूँ मैं फिर भी ये बात कहाँ मानता हूँ मैं

हादसे कुछ दिल पे ऐसे हो गए , हम समुन्दर से भी गहरे हो गए

आरज़ू होनी चाहिए किसी को याद करने की, लम्हें तो अपने आप ही मिल जाते हैं।

कोई रूह का तलबगार मिले तो हम भी महोब्बत कर ले… यहाँ दिल तो बहुत मिलते है,बस कोई दिल से नहीं मिलता

कैसे भुला दूँ उस भूलने वाले को मैं.. मौत इंसानों को आती है यादों को नहीं

मत पूछ शीशे से उसके टूटने की वजह, उसने भी मेरी तरह किसी पत्थर को अपना समजा होगा

तुम चाहते तो निभा भी सकते थे, मगर तुमने ऐसा कभी चाहा ही नहीं.

#जिन्हें _प्यार नहीं #रुलाता, उन्हें #प्यार की #निशानिया _रुला देती है !!

 #इश्क़ कभी #झूठा _नहीं होता,
#झूठे तो #बस _कसमे और #वादे होते है !!

 #बरसो बाद भी #तुझे _याद करू तो #आँखे भर आती है,
मेरी #जान जाने कैसे तू #अपने _दिन बिताता है !!

 #प्यार उससे नहीं होता #जिसके _साथ रहा जाए,
#_प्यार तो उससे होता है #जिसके _बिना ना रहा जाए !!

 #इश्क़ वो #नहीं जो #_तुझे मेरा कर दे,
इश्क़ वो है जो #तुझे _किसी और का ना होने दे !!

 #नाराज क्यों होते हो #चले _जायेंगे तेरी #महफ़िल से,
#मुझे _मेरे #दिल के #_टुकडें तो उठाने दो !!

 जो #प्यार _सच में होता है न,
वो #लाइफ में #एक _ही बार होता है !

कितनी महँगी पड़ी मुझे मुस्कुराने की अदा, सब अकेला छोड़ गए मुझे ये कहकर क़ि तुम तो अकेले भी खुश रह लेते हो

दर्द जब हद से ज्यादा बढ़ जाए , तो वो ख़ामोशी का रूप ले लेता है

Tags - Feeling Alone Sad Status, Feeling Alone Status, Feeling Alone Status in Hindi, Feeling Alone Sad Status in Hindi, Alone Status, Sad Status Shayari in Hindi
Sad feeling alone status shayari in hindi, Sad Status in Hindi, Narazgi Sad Status, Sad Relationship Status.

हर दिन नये नये स्टेटस और शायरी पाने के लिए अभी Bookmark करें StatusCrush.in को।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां